Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

सिधौली ,कौशल का लखनऊ से दिल्ली तक का सफर। .

post

सिधौली ,कौशल का लखनऊ से दिल्ली तक का सफर। 

विपरीत परिस्थितियों का भी डटकर किया मुकाबला।


2002 में निर्दलीय विधानसभा का चुनाव जीतकर जनशक्ति मनवाया था लोहा।

अनुसूचित वर्ग में मजबूत पैठ रखते है कौशल, 

सिधौली।सीतापुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई टीम में उत्तर प्रदेश से एक ऐसे शख़्स की इंट्री हुई है जिसने हमेशा गरीबों, मजलूमो की आवाज़ को बुलंद करके उनको न्याय दिलाने का काम किया है। उत्तर प्रदेश में जब कभी जनता में ये चर्चा होती है कि कौन सा ऐसा जनप्रतिनिधि है जिससे जनता सीधे एवं 24×7 घण्टे मिल सकती है, तब सीधे जुबान पर पहला नाम उत्तर प्रदेश के मोहनलालगंज से लोकसभा सांसद कौशल किशोर का नाम आता है, अधिकतर देखने मे मिलता है बहुत से नेता पब्लिक से मिलने के समय भी उनकी एक अलग बड़ी गद्देदार कुर्सी रखी होती है, लेकिन इससे हटकर सरलता पूर्वक रहने वाले मंत्री कौशल किशोर अपने घर पर भी एक सामान्य से प्लास्टिक की कुर्सी पर बैठकर लोगो की समस्याओं को सुनते नजर आते है।

तमाम संघर्षों के बीच लखनऊ से दिल्ली तक का सफर तय करने वाले  कौशल किशोर ने वर्ष 1986 में राजनीति के क्षेत्र में कदम रखते हुए लखनऊ जनपद की विधानसभा मलिहाबाद से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में विधानसभा का चुनाव लड़ा।वर्ष 2000 में कौशल ने स्वयं की राष्ट्रवादी कम्युनिस्ट पार्टी बनाई, जिसके बैनर तले लगातार जनसमस्याओं को उठाते रहे, जनता को हक़ दिलाने के सड़क पर उतरकर धरना प्रदर्शन कर जनता को न्याय दिलाने का काम किया।वर्ष 2002 में कौशल किशोर की किस्मत ने उनका पूरा साथ दिया एवं मलिहाबाद की जनता ने अपने जमीनी नेता पर भरोसा करते हुए कौशल को विधायक बनाकर सदन पहुचाने का काम किया।जिसके बाद उनको सपा सरकार में राज्य मंत्री बनाया गया। वर्ष 2004 में कौशल किशोर ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लोकसभा का चुनाव लड़ा।लेकिन जीत हासिल नही हो पाई।वर्ष 2014 में कौशल किशोर ने भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए, भाजपा ने कौशल किशोर पर भरोसा जताते हुए मोहनलालगंज लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा कौशल ने शीर्ष ने नेतृत्व के भरोसे को कायम रखते हुए एक बड़ी जीत हासिल करते हुए ये सीट भाजपा की झोली में डाल दी।अनुसूचित समाज मे मजबूत पकड़ रखने वाले कौशल किशोर को भारतीय जनता पार्टी ने अनुसूचित मोर्चे का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर संगठन की मजबूत जिम्मेदारी सौंप दी।वर्ष 2019 में फिर से भाजपा ने कौशल किशोर को मोहनलालगंज से प्रत्याशी बनाकर चुनावी मैदान में उतारा, जिसमे विपक्ष में सपा बसपा का गठबंधन चुनाव लड़ रहा था, लेकिन कौशल किशोर ने प्रचंड जीत हासिल की।कौशल किशोर ने पारख महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी है, जिसमे हज़ारों लोग शामिल है।

कोरोना को दी मात

सिधौली।जब देश वैश्विक कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा था तब भी मंत्री कौशल किशोर ने अपने आप की परवाह न करते हुए गाव गाव जाकर लोगो को राशन, मास्क, सेनेटाइजर वितरित किये।साथ ही उन्होंने कोरोना वारियर्स को भी सम्मानित कर उनका हौसला बढ़ाये रखने का काम किया।इस दौरान कौशल किशोर भी कोरोना की चपेट में आ गए, लेकिन दिल से मजबूत, लोगों की दुवाओ व चिकित्सको  की सलाह का पूरी तरह से पालन करते हुए उन्होंने कोरोना जैसी बीमारी को मात देते ठीक हुए एवं फिर से लोगो की सेवा करने लगे।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner