Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

नैमिष ,धर्म के कार्य करने से प्रभु होते है प्रसन्न .

post

नैमिष ,धर्म के कार्य करने से प्रभु होते है प्रसन्न 



नैमिषारण्य / सीतापुर 

नैमिषारण्य धार्मिक नगरी जहां आए दिन भगवान के नाम का कार्य किया जाता है दूर-दूर से श्रद्धालु आकर मां ललिता देवी के चरणों में मत्था टेक कर अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए प्रार्थना करते हैं चक्र कुंड में स्नान करते हैं दक्षिण मुखी हनुमान जी के चरणों में शीश नवाते हैं नैमिष के सभी देवी देवताओं को प्रणाम करते हैं, परंतु कोरोना कॉल होने की वजह से काफी समय से श्रद्धालुओं का आना जाना बहुत कम हो गया है जिसे कथा भागवत व धार्मिक कार्य कुछ हद तक कम हो रहे हैं, तीर्थ वासियो की पूर्ण आशा है कि बहुत जल्द कोरोना से निजात मिलेगी तीर्थ वासी और आने वाले सभी श्रद्धालुओ को कोरोना  कॉल को खत्म करने के लिए सभी की  मां से प्रार्थना हैं,


 बीते काफी समय से लॉकडाउन के प्रक्रिया चली आ रही है ऐसे में तीर्थ वासियों की रोजी-रोटी पर संकट लगातार छाया रहा,ऐसे विपरीत परिस्थिति में कुछ धार्मिक लोगों ने अपना कदम बढ़ाया और अपनी सामर्थ्य के अनुसार तीर्थ वासियों में भोजन फल इत्यादि वितरण का कार्य किया और बीते कुछ समय से करते आ रहे हैं,


ऐसा ही पुनीत कार्य महीने मे एक बार 

पावन चिंतन धारा आश्रम गाजियाबाद   के संस्थापक अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पवन सिन्हा जी की प्रेरणा से नैमिषारण्य में महीने में एक बार  निशुल्क लोगों में भोजन फल आदि खाने की सामग्री जरूरतमंद लोगों में बटवाई जाती है,भंडारे का सुनिश्चित स्थान राजस्थानी गेस्ट हॉउस, सेवा कार्य अजय जी खाद्य सुरक्षा अधिकारी मिश्रिख, घनश्याम अग्रवाल,मुकुंद अग्रवाल के द्वारा यह कार्य हर महीने मे एक बार किया जाता है.

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner