Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

सिधौली ,गांवों में नहीं कार्यालयों में बाबूगिरी कर रहे सफाई कर्मी.

post

  • सिधौली ,गांवों में नहीं कार्यालयों में बाबूगिरी कर रहे सफाई कर्मी 



सिधौली सीतापुर। प्रधानमंत्री भले ही साफ सफाई को लेकर स्वच्छ भारत अभियान चला रहे हों, लेकिन अधिकारी अपनी सहूलियत के लिए इस अभियान को पलीता लगा रहे हैं। जिले में  कई हजार से अधिक वेतन पाने वाले सफाई कर्मचारी अपने मूल दायित्वों से अलग हटकर अधिकारियों की खिदमत में जुटे हैं। ब्लॉक हो या जिला पंचायत राज विभाग कार्यालय के अलावा अधिकारियों के पास भी सफाई कर्मचारी काम कर रहे हैं। जबकि जिले के करीब दस प्रतिशत गांवों में सफाई कर्मचारी नहीं है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के तहत लगातार ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता को लेकर मुहिम चलाई जा रही है। इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में भारी भरकम बजट भी खर्च किया गया है। लेकिन मूल रूप से सफाई का कार्य करने वाले ही अधिकारियों की सेवा में लगे हैं। यह विडंबना ही है कि करीब दस प्रतिशत गांवों मेें सफाई कर्मचारियों की तैनाती नहीं है। ऐसा भी नहीं है कि सफाई कर्मचारियों की जिले में संख्या कम है, लेकिन बड़ी संख्या में सफाई कर्मचारियों को निजी और विभागीय कार्यों के लिए कार्यालयों में तैनात किया हुआ है। कुछ सफाई कर्मचारी तो बाबुओं का काम देख रहे हैं वहीं कुछ अधिकारियों के पास अपनी सेवाएं दे रहे हैं। ऐसा ही एक प्रकरण सीतापुर के सिधौली विकासखंड के बाड़ी ग्राम पंचायत का प्रकाश में आया है जहां ग्राम प्रधान जलिस अंसारी द्वारा एडियो ,वीडियो ,सहित जिले के कई बड़े अधिकारियों को लिखित शिकायत करते हुए ग्राम पंचायत में सफाई कर्मी नियुक्त किए जाने को लेकर अर्जियां लगाते थक गए किंतु ग्राम पंचायत में सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने को लेकर किसी भी सफाई कर्मचारी का नियुक्ति करण नहीं किया गया सफाई कर्मी द्वारा ग्राम पंचायत में सफाई व्यवस्था दुरुस्त ना कराए जाने को लेकर अधिकांश बीमारियां उपस्थिति रहती हैं ग्रामीण एक बीमारी से फुर्सत पाते नहीं दूसरी से ग्रसित हो जाते हैं संबंधित ग्राम प्रधान द्वारा जनता का हाल हाल देखकर हर अधिकारी के दरवाजे खटकाना आने से पीछे नहीं हटे किंतु विभागीय उदासीनता के चलते उन्हें सिर्फ दफ्तरों की धूल हाथ लगी

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner