Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

हरदोई ,खाऊ-कमाऊ नीति के चलते ब्लॉक में ही आधा अधूरा पड़ा सामुदायिक शौचालय.

post

हरदोई ,खाऊ-कमाऊ नीति के चलते ब्लॉक में ही आधा अधूरा पड़ा सामुदायिक शौचालय


स्वच्छ भारत मिशन को जमकर लग रहा पलीता



हरदोई। स्वच्छ भारत मिशन(स्वच्छता अभियान) के अंतर्गत खुले में शौचमुक्ति के लिए सरकार जहाँ प्रत्येक ब्लॉक की प्रत्येक ग्राम पंचायत में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण करा रही हैं वहीं जिम्मेदार अधिकारियों की घोर लापरवाही व बंदरबाँट नीति के चलते हरदोई जनपद के कछौना विकासखंड परिसर में बना मॉडल सामुदायिक शौचालय कई महीनों बाद भी अभी तक आधा अधूरा बना पड़ा है।सरकार की मंशा है कि कोई व्यक्ति खुले में शौच के लिए ना जाए लेकिन ब्लॉक सहित ग्राम पंचायतों में आधे अधूरे पड़े सामुदायिक शौचालयों से यही लगता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता का जो सपना देखा था उसे भ्रष्ट अधिकारियों का गठजोड़ कभी पूरा नहीं होने देगा।


स्वच्छ भारत मिशन के तहत कछौना की ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कराया गया है।इस मिशन के अंतर्गत विकासखंड परिसर में भी एक मॉडल शौचालय का निर्माण कार्य कई महीनों पहले शुरू हुआ था लेकिन संबंधित अधिकारियों की खाऊ कमाऊ व बंदरबांट नीति तथा शासन के शिथिल पर्यवेक्षण के चलते शौचालय को आधा अधूरा बनाकर ही छोड़ दिया गया।शायद कागजों पर ये शौचालय पूरे हो लेकिन जमीनी हकीकत पर इन शौचालयों में ना तो पानी का इंतजाम है और ना ही अभी तक दरवाजा, फर्श, नल फिटिंग आदि जैसे कार्य कराए गए हैं।हालात यह हैं कि कई महीनों से आधा अधूरा पड़ा शौचालय शासन की मंशा पर जमकर पानी फेरने के साथ साथ ब्लॉक क्षेत्र में स्वच्छ भारत मिशन की हकीकत बयां कर रहा है।

कछौना ब्लॉक परिसर के इस सामुदायिक शौचालय के साथ साथ क्षेत्र की कई ग्राम पंचायतों में भी अधिकांश शौचालयों का निर्माण कार्य अभी भी अधूरा है जहाँ कई छोटे छोटे कार्य अभी शेष रह गए हैं।शौचालयों का पैसा निकलने के बाउजूद भी अधिकांश शौचालयों में कहीं टाइल्स नहीं लगे हैं तो कहीं पानी की टंकी उपलब्ध नहीं है।नल, टोंटी आदि के साथ साथ प्लास्टर, दरवाजे, फर्श, नल फिटिंग जैसे कई कार्य अभी भी होने बाकी हैं।शौचालयों पर लाखों रुपए खर्च होने के बाद भी आमजनमानस को इनका लाभ नहीं मिल पा रहा है।कछौना ब्लॉक परिसर सहित क्षेत्र में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण लापरवाही का शिकार बना हुआ है जिससे ब्लॉक में खुले में शौचमुक्त(ओ.डी.एफ.) व स्वच्छ भारत अभियान को जमकर झटका लग रहा है।


उपरोक्त मामले के संदर्भ में जब कछौना के खंड विकास अधिकारी प्रमोद कुमार अग्रवाल से वार्ता की गई तो उन्होंने बताया कि ब्लॉक परिसर में बना शौचालय क्षेत्र पंचायत निधि से बन रहा था।पूर्व खंड विकास अधिकारी(यों) ने इसका पूरा भुगतान नहीं किया था।शौचालय का स्टीमेट उन्होंने 7.5 लाख से 8 लाख रुपए तक होने का बताया है।साथ ही बताया कि क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में आधे अधूरे पड़े सामुदायिक शौचालयों की जांच कर संबंधित सचिव को नोटिस जारी करते हुए अतिशीघ्र पूरा कराकर उनका प्रयोग शुरू करा दिया जाएगा।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner