Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

हरदोई, वृंदावन के कलाकारों द्वारा रामलीला मेला में लीलाओं का मंचन.

post

हरदोई, वृंदावन के कलाकारों द्वारा रामलीला मेला में लीलाओं का मंचन


शाहाबाद।श्री रामलीला मेला मोहल्ला पठकाना में कई लीलाएं हर रात खेली जा रहीं हैं। जिन्हें देखने के लिए दर्शकों में पर्याप्त उत्साह है।

रामलीला मेला पठकाना के मनभावन मंचन के दौरान वृन्दावन की पार्टी के कलाकारों की कलाकारी काफी काबिले तारीफ रही। सफलतापूर्वक निभाई गई कलाकारों की भूमिका के दौरान भरत अपने भइया राम को मनाने चित्रकूट गए। रास्ते मे राम, लक्ष्मण सहित सीता का पता लगाने में भरत को बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लेकिन सकुशल उनके पास तक पहुंच गए। तीनों भाई सीता सहित बड़े प्रेम से मिले लेकिन राम ने रघुकुल रीति की बात पर बल देते हुए जब वापस अयोध्या लौटने से मना कर दिया तो भरत ने भावुक होकर उनके खड़ाऊँ मांग लिए और अयोध्या वापस लौट आए। जहाँ पर उन्होंने राजसिंहासन पर राम के खड़ाऊँ रख दिए और अपने प्रभु की भक्ति में सन्त समान जीवन व्यतीत करने लगे। यद्यपि इस मसले पर राजमहल के लोगों सहित अयोध्या वासी शोकाकुल हैं तो उधर खर दूषण त्रिशरा के बध के बाद सूपर्णखा की नाक काटने केे तदुपरान्त जब दोनों भाई राम लखण अंततः मायामृग मारीच का बध करके पुनः पंचवटी में लौटे तो देखा की सीता जी गायब हैं। काफी भटकने के बाद दोनों भाइयों को वीर जटायु एक जगह घायलावस्था में मिल गया है। जिसने पीड़ा से कराहते हुए सीता हरण से लेकर रावण तक का सारा वृतांत बताया। और अपने प्राण प्रभु राम की गोद में छोड़ दिए। राम ने गिद्ध राज जटायु का अंतिम संस्कार अपनेे हाथों किया और अपनेे गंतव्य की ओर आगे बढ़तेे चले गए। रास्ते में उनकी सप्रेम भेंट वानर राज सुग्रीव से हुई। जहां से उनके लिए समुचित सहायता के मार्ग प्रशस्त होते गए। और वहीं से आपस में विचाार विमर्श कर आगेे की रणनीति बनती चली जा रही है। जिससे लंका दहन के साथ ही गुरुवार को रावण की लंका पर राम की संपूर्ण सेना द्वारा चढ़ाई और शुक्रवार की रात तक रावण का बध तथा वहां से सीता की मुक्ति सुनिश्चित है। शनिवार को लंका विजय के बाद निश्चित रूप से राम राज गद्दी की लीला के साथ ही श्री रामलीला मेला मोहल्ला पठकाना का उद्यापन अगले वर्ष तक केे लिए कर दिया जाएगा। बृन्दावन की पार्टी द्वारा बड़ा ही मनमोहक रामलीला का मंचन प्रति शाम से शुरू हो जाता है जिसमें रामलीला मेला समिति समेत विशेष सहयोगी गण अपनी अपनी भूमिका का समुचित निर्वहन करते हुए दिखाई देतेे हैं जिनमें प्रमुख रूप से संरक्षक योगेश अरोड़ा सहित रामलीला मेला महामंत्री अनुराग मिश्रा, मंत्री आशीष मोहन तिवारी, ऋषि कुमार मिश्रा, सुदेश मिश्रा, शशि मिश्रा, पुष्पेंद्र मिश्रा, मृदुल अवस्थी श्याम, अभय खत्री, वंसत गुप्ता, अनमोल गुप्ता आदि के नाम प्रमुख रूप से लिए जाते हैं।

दशहरा को शाहाबाद की पठकाना रामलीला में रावण बध

शाहाबाद। श्री रामलीला मेला मोहल्ला पठकाना में दशहरा की रात रावण बध के साथ ही रावण के पुतला दहन की औपचारिकता निभाई जाएगी। यह जानकारी श्री रामलीला मेला समिति के मीडिया प्रभारी ओमदेव दीक्षित द्वारा दी गई है। 

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner