Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

शाहजहांपुर ,आफत की बारिश से अन्नदाता हुए बर्बाद, बेमौसम भयंकर बारिश से लगभग धान की फसल को 70% नुकसान.

post

शाहजहांपुर ,आफत की बारिश से अन्नदाता हुए बर्बाद, बेमौसम भयंकर बारिश से लगभग धान की फसल को 70% नुकसान


खेतों में भरे पानी से निकालकर धान की फसल को पेड़ की टहनियों पर टांग कर सुखाने को मजबूर


पहले महंगाई और अब बेमौसम बारिश ने किया किसानों का बंटाढार

अन्नदाता खून के आंसू रोने को मजबूर

दिनेश मिश्रा


कलान-शाहजहांपुर 

पहले कोरोना वायरस महामारी इसके बाद कमरतोड़ महंगाई ने किसानों के दर्द को चौगुना कर दिया था। अब मौसम के करवट बदलने के कारण हुई मूसलाधार बारिश से अन्नदाता खून के आंसू रोने को मजबूर है।


तहसील कलान क्षेत्र में आफत की बारिश से अन्नदाता लगभग बर्बाद हो चुका है। किसान खून के आंसू रोने को मजबूर है। तहसील क्षेत्र बेमौसम भयंकर बरसात के कारण लगभग 70% किसानों की खेतों में कटी पड़ी धान की फसल पूरी तरह से पानी में डूब गई है।

धान की खड़ी फसल भी तेज हवाओं के चलने के कारण खेतों में पसर गई है। तहसील क्षेत्र के गांव पिलुआ, ढका लालपुर, जखिया,सेठां, मदनपुर,सैदापुर, विक्रमपुर,गढ़िया छवि,मकरंदपुर, खजुरी,दारानगर,पटना देवकली, रासानगरिया,भर्रामई,चांदपुर,सथरी,कुदरासी,रुकनपुर,धर्मपुर सथरा,शेरपुर कुर्रिया,नौगबा मुबारिकपुर, नयागांव सहवेगपुर,बहरिया,कीलापुर,अबदुल्लानगर मिलकिया,हरेली नेकपुर, कबरा सलेमपुर,धर्मपुर गनेशपुर, समेत पूरी तहसील क्षेत्र में किसानों का भारी मात्रा में नुकसान हुआ है। बारिश से पहले बमुश्किल बीस प्रतिशत किसानों ने अपनी ही अपनी फसल काट कर घर ले जा पाई थी। लेकिन अचानक रविवार को तेज हवा के साथ बारिश होने से खेत में खड़ी किसानों की फसल बर्बाद हो गई।

वहीं इस भयंकर बारिश से बाजरे की फसल को भी अत्यधिक नुकसान हुआ है। क्षेत्र के कई गांवों में किसान खेत में भरे पानी से अपने कटे हुए धान को निकालकर तो पेड़ों की टहनियों पर सुखाने को मजबूर हैं ।उत्तर प्रदेश सरकार को चाहिए कि प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश देकर इस भयावह स्थिति में बारिश से हुए नुकसान का सर्वे कराकर प्रदेश के अन्नदाताओं को उचित मुआवजा दे।जिससे किसानों को कुछ राहत मिल सके।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner