Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

सीतापुर,बच्चों को समय से जरूरी टीके अवश्यक लगवाएं : सीएमओ .

post

सीतापुर,बच्चों को समय से जरूरी टीके अवश्यक लगवाएं : सीएमओ 

- अस्पतालों में बच्चों को लगाए जा रहे जरूरी टीके, उसका लाभ उठाएं 

- बच्चों में कोविड अनुरूप व्यवहार की आदत भी डालना जरूरी 

सीतापुर, 27 अक्टूबर। कोविड की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के अधिक प्रभावित होने की आ रहीं ख़बरों को ध्यान में रखते हुए इस समय बच्चों की सेहत पर खास ध्यान देने की जरूरत है। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि अभी उनके लिए कोविड से बचाव का कोई टीका लगाने का काम नहीं शुरू हुआ है।  

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. मधु गैरोला का कहना है कि हमें बच्चों में बार-बार हाथ धोने, घर से बाहर न निकलने और बहुत जरूरी होने की स्थिति में बाहर निकलने पर मास्क लगाने की आदत डालनी होगी। अगर घर से बाहर निकल रहे हैं तो दूसरों से दो गज की शारीरिक दूरी बनाकर रखने के लिए अभिभावक उन्हें मानसिक तौर पर तैयार करें। 

सीएमओ का कहना है कि बच्चों को अन्य बीमारियों से बचाने के लिए समय से निर्धारित टीके लगवाना बहुत ही जरूरी है। उन्होंने बताया कि कोरोना कर्फ्यू में भी टीकाकरण जारी रहा। ऐसे में माता-पिता अपने बच्चों को आकर टीका अवश्य लगवाएं ताकि वह पोलियो, हिपेटाइटिस, टीबी, डीपीटी और टिटेनस जैसे बिमारियों से सुरक्षित रहें। इसके साथ ही जिन बच्चों को बूस्टर का टीका नहीं लगा है वह भी लगवा लें। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी व एसीएमओ डॉ. पीके सिंह ने सभी अभिभावकों से अपील करते हुए कहा है कि बच्चों को टीका समय से लगवाना चाहिए। यह टीके जिला महिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों (सीएचसी) , प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और एएनएम केन्द्रों  पर लगाये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम (UIP)के तहत भारत सरकार द्वारा निःशुल्क टीकाकरण किया जा रहा है, जिसमें डिप्थीरिया, काली खांसी, हिपेटाइटिस बी, मेनिंजाइटिस, टिटेनस, पोलियो, टीबी, खसरा व निमोनिया (हेमोफिल्ट्स इंफ्लुएंज़ा टाइप बी संक्रमण) तथा यूआईपी के तहत नए टीके जैसे रोटा वायरस, आईपीवी , वयस्क जेई का टीका, न्यूमोकोकल कंजुगेट टीका (पीसीवी) और खसरा-रूबेला (एम-आर) के टीके बच्चों को लगाए जा रहे हैं। 

इनसेट --- 

शिशु को कब, कौन टीका लगेगा ---

बीसीजी - जन्म के समय या फिर जन्म के एक माह के अंदर 

हेपेटाइटिस बी (बर्थ डोज) और पोलियो - जन्म के समय या फिर जन्म के 24 घंटे के अंदर 

पेंटा, आईपीवी, पोलियो, रोटा और पीसीवी - 1.5 माह पर 

पेंटा, पोलियो और रोटा - 2.5 माह पर 

पेंटा, पोलियो और रोटा - 3.5 माह पर 

मीजिल्स रूबेला पहली खुराक, विटामिन ए, जेई, पीसीवी बूस्टर - 9 माह पर

मीजिल्स रूबेला दूसरी डोज, विटामिन ए, जेई दूसरी खुराक, डीपीडी की पहली डोज - 16 से 18 माह पर

डीपीडी की दूसरी डोज - पांच साल पर

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner