Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

कानपुर, गर्भवती व धात्री के लिए कोविड टीकाकरण पूरी तरह सुरक्षित – डॉ. सीमा श्रीवास्तव .

post

कानपुर, गर्भवती व धात्री के लिए कोविड टीकाकरण पूरी तरह सुरक्षित – डॉ. सीमा श्रीवास्तव 

गर्भवती व होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए टीकाकरण आवश्यक 

धात्री महिलाएं भी लगवाएं टीका, दूध के माध्यम से बच्चों में भी बढ़ती है प्रतिरोधक क्षमता 

जिला महिला अस्पताल में लग रहे महिलाओं के लिए स्पेशल टीकाकरण बूथ 

कानपुर, 17 नवम्बर 2021 । कोविड-19 संक्रमण का खतरा कम हुआ है पर पूरी तरह से ख़त्म नहीं हुआ है । इसलिए कोविड टीकाकरण सभी के लिए आवश्यक है । कोविड टीकाकरण पूरी तरह सुरक्षित है और खासकर गर्भवती महिलाओं और होने वाले बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए कोविड टीकाकरण बहुत ही आवश्यक है, यह कहना है जिला महिला चिकित्सालय (डफरिन) की मुख्य चिकित्सा अधीक्षिका डॉ. सीमा श्रीवास्तव का ।

डॉ. सीमा श्रीवास्तव ने कहा कि कोविड टीकाकरण गर्भवती व दूध पिलाने वाली महिलाओं दोनों के लिए पूरी तरह सुरक्षित है । उन्होंने बताया कि गर्भावस्था में महिला की प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर होती है इसलिए अधिक सावधानी की आवश्यकता होती है । यदि गर्भावस्था में किसी महिला को कोविड संक्रमण होता है तो महिला को तो खतरा होता ही है, साथ ही पैदा होने वाले बच्चे पर भी कोविड से संक्रमित होने का खतरा बना रहता है । ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही भी भरी पड़ सकती है । माँ के दूध में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने वाले तत्व होते हैं जिससे बच्चों में रोगों से लड़ने की क्षमता विकसित होती है । यदि धात्री महिला कोविड टीकाकरण कराती है तो महिला के शरीर में कोविड-19 से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है । यही क्षमता दूध के माध्यम से बच्चे में भी पहुँचती है । इसलिए प्रत्येक गर्भवती और धात्री महिला का कोविड-टीकाकरण होना आवश्यक है जिससे माँ व बच्चा दोनों कोविड-19 से सुरक्षित रहें ।

डॉ. सीमा ने बताया कि जिला महिला चिकित्सालय (डफरिन) में महिलाओं के लिए विशेष महिला स्पेशल टीकाकरण सत्र आयोजित किये जा रहे हैं और गर्भवती व धात्री महिलाओं का टीकाकरण भी किया जा रहा है। सत्र में ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से टीकाकरण हो रहा है । उन्होंने कहा कि जिन गर्भवती और धात्री महिलाओं ने अभी तक अपना कोविड टीकाकरण नहीं करवाया है वह जल्द से जल्द टीकाकरण करवायें । कोविड-19 से बचाव का एक मात्र साधन टीकाकरण और सावधानी है ।

परिवार के सदस्य ध्यान दें-  अधिकांश गर्भवती या धात्री महिलायें टीकाकरण के लिए परिवार के सदस्यों पर निर्भर रहती हैं। डॉ. सीमा ने अपील की है कि परिवार के सदस्य जच्चा-बच्चा की सुरक्षा के लिए बिना देरी किये टीकाकरण करवाएं और स्वयं भी कोविड टीका लगवाएं । 

कोविड टीकाकरण करवाने वाली गर्भवतियों में नौबस्ता निवासी मोनी मिश्रा (37), अनवरगंज निवासी शिवानी (28) और शुक्लागंज निवासी ऋतू पाण्डेय (25) ने बताया कि टीकाकरण के बाद उन्हें कोई दिक्कत नहीं हुई और वह पूरी तरह से स्वास्थ्य हैं ।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner