Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

हरदोई,शिव सत्संग मण्डल ऋषियों,मुनियों की सत्संग परंपरा से समाज को जोड़ने का कार्य कर रहा है: डॉ एम एल गुप्ता.

post

हरदोई,शिव सत्संग मण्डल ऋषियों,मुनियों की सत्संग परंपरा से समाज को जोड़ने का कार्य कर रहा है: डॉ एम एल गुप्ता


हरदोई।नरसियामऊ में आयोजित शिवोत्सव में डॉक्टर एम एल गुप्ता ने कहा कि शिव सत्संग मण्डल, ऋषियों मुनियों की सत्संग परंपरा से  समाज को जोड़ने का कार्य कर रहा है।यहां शिवोत्सव पर श्रद्धालुओं ने बहुत तल्लीनता के साथ सामूहिक प्रार्थना व शिव उपासना की। डॉक्टर गुप्ता ने आग्रह किया कि सभी सत्संग परिवार संस्कारित होकर समाज व देश के निर्माण में योगदान दें।समाज निर्माण में अपनी महती भूमिका निभाएं।सत्संग और सामूहिक भंडारा से सामूहिकता का बोध हो।उन्होंने कहा कि विदेशी संस्कृतियों ने हमारी सभ्यता को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत किया।जिससे समाज में विघटन हुआ। सनातन संस्कृति में कर्म प्रधान है।कर्म ही आपका धर्म है।डॉक्टर गुप्ता ने बताया कि विदेशी संस्कृतियां सत्ता प्राप्ति का एक साधन हैं।सत्संग यानि सत्य का साथ,इसलिए सत्याचरण भी हो।ज्ञान योग,भक्ति योग एवं कर्म योग से ईश्वर को प्राप्त कर सकते हैं।

शिव सत्संग मण्डल अध्यक्ष आचार्य अशोक ने कहा कि देवों के देव महादेव सभी के परमपिता हैं।महादेव की शक्ति भारतीय ग्रंथों में वर्णित है।प्रभु से यही विनती है कि जनकल्याण करने का आशीर्वाद देते रहें।कहा कि सत्संग से विभिन्न स्थानों पर जाने का अवसर प्रभु कृपा से ही मिलता है।उन्होंने बताया कि वेदों का ज्ञान बड़ा रहस्यमयी है।वेद ज्ञान,विज्ञान,चिकित्सा,व मानवीय मूल्यों से ओतप्रोत है।उन्होंने कहा कि शिव आराधना से लौकिक,पारलौकिक सुख ऐश्वर्य व आनंद प्राप्त होता है।

 शिव स्तुति करने सेे मन

में प्रसन्नता की लहर दौड़ जाती है। आध्यात्मिक शक्तियों से स्व परिवर्तन

के साथ साथ वैश्विक परिवर्तन संभव हो जाता है। परमात्मा का प्रकाशस्वरूप

से ध्यान करने मात्र से जीवन में अलौकिक बदलाव आता है।आचार्य जी ने कहा कि धर्म पर जो चला वह उन्नति की ओर बढ़ा।ध्यान और भजन से मनुष्य एक बेहतर इंसान बनता है। अटूट श्रद्धा और विश्वास से भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं।

 लखनऊ अध्यक्ष राजेश पाण्डेय ने

कहा कि साधना के पथ पर अग्रसर होकर हमें जो भी ऐश्वर्य,ज्ञान,धन आदि मिले, उससे शुभ कार्य करें। यज्ञ करें।समाज की सेवा करें।जरूरत मंद पर व्यय करें। हमें गर्व होना चाहिए कि हम त्रिकालदर्शी ऋषियों की संतान हैं।हम परमेश्वर के विशुद्ध तेज का ध्यान करें।परमेश्वर हमारी बुद्धियों को सन्मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करे।

व्यवस्थापक यमुना प्रसाद ने सत्संग की महिमा बताई। शाहजहाँपुर के जिला अध्यक्ष डॉ कलिका प्रसाद ने कहा कि सज्जनो से जुड़ें और समाज को अच्छा बनायें। रामअवतार ने दान व सेवा का महत्व बताया। नन्हे लाल,सत्संगी इंस्पेक्टर एवं रविलाल ने कहा कि आध्यत्म में लोक कल्याण सर्वोपरि होता है।

इस शिवोत्सव का शुभारम्भ समाजसेवी चिकित्सक डॉक्टर एम एल गुप्ता  ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।सत्संगी श्रीकृष्ण ने सामूहिक ईश प्रार्थना प्रस्तुत की।

राज कुमार एवं श्रीकृष्ण आदि ने प्रेरणादायी भजन सुनाकर श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर लिया। संयोजक अम्बरीष कुमार सक्सेना एवं जमुनादीन के संयुक्त संचालन में हुए इस शिवोत्सव की अध्यक्षता शाहजहांपुर के सत्संगी हरिओम ने की।

 समापन पर सभी सत्संगी जनों ने रोजाना ब्रह्ममुहूर्त में उठकर प्रभु का सुमिरन करने का शिव संकल्प लिया।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner