Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

शाहजहाँपुर,प्रसव केंद्र पर नवजात शिशु मौत प्रकरण प्रसूता को घर जाने के लिये नहीं दी गयी एम्बुलेंस.

post


शाहजहाँपुर,प्रसव केंद्र पर नवजात शिशु मौत प्रकरण प्रसूता को घर जाने के लिये नहीं दी गयी एम्बुलेंस

रात में प्रसूता का पति गोद लेकर  पैदल गया गांव

 प्रसूता के पति ने एएनएम पर लगाया प्रसव केन्द्र से भगाने का आरोप

स्वास्थ विभाग कलान के लोग प्रसूता के पति पर समझौते के लिए बना रहे दबाव

कलान-शाहजहांपुर

(स्वतंत्र खबर) 

दिनेश मिश्रा

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कलान स्थित प्रसव केन्द्र पर नवजात शिशु मौत प्रकरण में प्रसूता के पति ने घर जाने के लिए एंबुलेंस न दिए जाने का आरोप लगाया है। उसने बताया कि रात में अपनी पत्नी साधना को गोद लेकर पैदल ही अपने गांव आया। आरोप है कि उसके बच्चे की मौत के बाद एएनएम पर प्रसव केंद्र से भगाने पर आरोप लगाया है। स्वतंत्र भारत संवाददाता दिनेश मिश्रा पड़ताल करने जब गांव पिलुआ पहुंचे तो प्रसूता साधना के पति कृपाल ने बताया कि उसकी पत्नी को 31 जुलाई को जब प्रसव पीड़ा हुई तो उसने काल की और एंबुलेंस से प्रसव केंद्र पंहुची। लेकिन प्रसव  के उपरांत उसके बच्चे की मौत हो गई।बच्चे की मौत के बाद बौखलाई एएनएम ने फोन तक एंबुलेंस को नहीं लगाने दिया और कहा कि जल्दी से प्रसव केंद्र से भाग जाओ।कृपाल ने बताया उसने एएनएम से कहा कि रात में मैं कैसे गांव जाऊंगा ? तो एएनएम ने कहां की मुझे नहीं पता कैसे जाओगे?कृपाल ने बताया कि उसने इस मामले की शिकायत स्वास्थ्य मंत्री जिला अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी शाहजहांपुर से की तो स्वास्थ्य विभाग कलान के लोग मुझ पर समझौते का दबाव बना रहे हैं। प्रसूता के पति कृपाल ने उच्चाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।

 ज्ञात हो कि तहसील कलान क्षेत्र के गांव पिलुआ निवासी कृपाल पुत्र धनीराम कश्यप ने दिए शिकायती प्रार्थना पत्र में आरोप लगाया है कि बीती 31 जुलाई को वह अपनी पत्नी साधना को प्रसव पीड़ा होने पर प्रसव हेतु प्राथमिक स्वास्थ केंद्र कलान स्थित प्रसव केन्द्र पर लाया था।जहां ड्यूटी पर तैनात एएनएम शबनम ने पहले तो भर्ती करने से मना कर दिया। जब उसने शबनम से काफी अनुरोध किया तो शबनम ने तीन हजार रुपये की मांग की। उसने बताया कि उसके पास तीन हजार रुपये नहीं थे।दो हजार रुपये थे।दो हजार रुपये देकर अपनी पत्नी को भर्ती कराया। उसका आरोप है कि प्रसव केन्द्र पर लाइट नहीं थी। जनरेटर भी नहीं चलाया गया। मुझसे मोमबत्ती मंगवाकर मोमबत्ती की रोशनी में मेरी पत्नी साधना का प्रसव कराया गया। अंधेरे में एएनएम की लापरवाही से मेरे बच्चे की मौत हो गई। जिससे मैं और मेरा परिवार काफी आहत है।उसने स्वास्थ्य मंत्री,जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्साधिकारी को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की थी।ऐसे में अब देखना यह है कि स्वास्थ्य महकमे के अधिकारी एएनएम के विरुद्ध क्या कार्रवाई करते हैं।यह तो अभी भविष्य के गर्भ में है।

बॉक्स- 

समाचार छपने के बाद बौखलाए प्रभारी चिकित्साधिकारी कलान

प्रभारी निरीक्षक को पत्र भेजकर की सुरक्षा की मांग

कलान

प्रसूता साधना पत्नी कृपाल के नवजात शिशु की मौत का समाचार हिंदी दैनिक स्वतंत्र भारत समाचार पत्र ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था समाचार प्रकाशित होने के बाद बौखलाए प्रभारी चिकित्साधिकारी कलान ने प्रभारी निरीक्षक थाना कलान को एक पत्र भेज कर सुरक्षा की मांग की थी।जिस पर प्रभारी निरीक्षक ने यह कहकर पत्र वापस कर दिया कि जिला अधिकारी महोदय के आदेश के उपरांत गार्ड उपलब्ध करा दिए जाएंगे।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner