Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

हरदोई,खुशहाल परिवार के लिए संबंधों में सद्भाव जरूरी: अम्बरीष कुमार सक्सेना.

post

हरदोई,खुशहाल परिवार के लिए संबंधों में सद्भाव जरूरी: अम्बरीष कुमार सक्सेना

हरदोई। एस आर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में आयोजित खुशहाल परिवार दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शिव सत्संग मण्डल के केन्द्रीय संयोजक अम्बरीष कुमार सक्सेना ने कहा कि खुशहाल परिवार के लिए संबंधों में सद्भाव आवश्यक है।छोटा परिवार सुखी परिवार समाज में शांति स्थापित करता है।

उन्होंने बताया कि परिवार एक ऐसी सामाजिक संस्था है जो आपसी सहयोग व समन्वय से क्रियान्वित होती है और जिसके समस्त सदस्य आपस में मिलकर अपना जीवन प्रेम, स्नेह एवं भाईचारापूर्वक निर्वाह करते हैं। संस्कार, मर्यादा, सम्मान, समर्पण, आदर, अनुशासन आदि किसी भी सुखी-संपन्न एवं खुशहाल परिवार के गुण होते हैं। कोई भी व्यक्ति परिवार में ही जन्म लेता है, उसी से उसकी पहचान होती है और परिवार से ही अच्छे-बुरे लक्षण सीखता है। परिवार सभी लोगों को जोड़े रखता है और दुःख-सुख में सभी एक-दूसरे का साथ देते हैं।

परिवार से बड़ा कोई धन नहीं होता हैं, पिता से बड़ा कोई सलाहकार नहीं होता हैं, मां के आंचल से बड़ी कोई दुनिया नहीं, भाई से अच्छा कोई भागीदार नहीं, बहन से बड़ा कोई शुभ चिंतक नहीं इसलिए परिवार के बिना जीवन की कल्पना करना कठिन है। एक अच्छा परिवार बच्चे के चरित्र निर्माण से लेकर व्यक्ति की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।यहां प्रबंधक सैय्यद रईस अली एवं विद्यालय का समस्त स्टाफ मौजूद रहा।

उधर नेहरू म्युनिसिपल कन्या इंटर कॉलेज में खुशहाल परिवार पर विचार व्यक्त करते हुए श्री सक्सेना ने कहा कि किसी भी सशक्त देश के निर्माण में परिवार एक आधारभूत संस्था की भांति होता है, जो अपने विकास कार्यक्रमों से दिनोंदिन प्रगति के नए सोपान तय करता है। कहने को तो प्राणी जगत में परिवार एक छोटी इकाई है लेकिन इसकी मजबूती हमें हर बड़ी से बड़ी मुसीबत से बचाने में कारगर है। परिवार से इतर व्यक्ति का अस्तित्व नहीं है इसलिए परिवार के बिना अस्तित्व के कभी सोचा नहीं जा सकता। लोगों से परिवार बनता हैं और परिवार से राष्ट्र और राष्ट्र से विश्व बनता हैं।इस अवसर पर प्रधानाचार्य नूरुल हुमा सहायक अध्यापिका बंदना दीक्षित रुचि दुबे पुष्पांजलि श्रीवास्तव वर्तिका शुक्ला उषा देवी वैशाली यादव आयशा परवीन भैरवी अग्निहोत्री शशि शुक्ला नायाब जहां समेत समस्त शिक्षिकाएं मौजूद रहीं।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner