Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

सीतापुर,गर्भवती व धात्री को टीकाकरण के प्रति किया जा रहा जागरूक.

post

सीतापुर,गर्भवती व धात्री को टीकाकरण के प्रति किया जा रहा जागरूक

- जिले में मनाया जा रहा  मातृ वंदना सप्ताह

सीतापुर। पहली बार गर्भवती होने वाली व धात्री महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य देखभाल और सही पोषण के लिए संचालित प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को गति प्रदान के लिए मातृ वंदना सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान एक से सात सितंबर के मध्य प्रत्येक दिन अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। हर साल मनाए जाने वाले इस सप्ताह की इस बार की थीम मातृ शक्ति-राष्ट्र शक्ति निर्धारित की गई है। इस बार गर्भवती को कोविड टीकाकरण के प्रति विशेष तौर पर जागरूक करने की योजना है। 

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के नोडल अधिकारी डॉ. आरएन गिरी ने बताया कि सप्ताह के दौरान सभी पात्र गर्भवती व धात्री महिलाओं को लाभ पहुंचाने पर जोर दिया जा रहा है। स्वास्थ्य, पोषण एवं स्वच्छता के प्रति संवेदनशीलता को बढ़ावा देने के साथ ही टीकाकरण के प्रति गर्भवती को विशेष तौर पर जागरूक किया जा रहा है। गर्भवती को उचित आराम व पोषण की जरूरत के बारे में जानकारी देने के साथ ही प्रसव पूर्व नियमित देखभाल की आवश्यकता समझाई जा रही है। गर्भवती को यह भी बताया जा रहा है कि संस्थागत प्रसव में ही जच्चा व बच्चा सुरक्षित हैं। शिशु टीकाकरण बच्चे के बेहतर स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। उन्होंने बताया कि मातृ वंदना सप्ताह के तहत ब्लाकों में मां-बच्चे व गर्भवती के लिए सेल्फी कार्नर बनाए जाएंगे। शिशु अथवा गर्भवती की सेल्फी सोशल मीडिया जनपद, राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर अपलोड की जाएगी। चयनित फोटो राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाले पुरस्कार वितरण समारोह में प्रदर्शित होगी। 

इस तरह मनेगा सप्ताह --

सप्ताह के चौथे दिन बैंक,डाकघर, यूआईडीआई, पंचायती राज व संबंधित क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं के साथ शिविर का आयोजन होगा। पांचवें दिन विशेष अभियान चलाकर करेक्शन क्यू में कमी लाकर द्वितीय व तृतीय किश्त के मामलों का निस्तारण किया जाएगा। छठे दिन सीएचसी-पीएचसी पर महिला सामुदायिक इवेंट का आयोजन होगा। गर्भवती को मौसमी फल, पौष्टिक आहार व अन्य खानपान की जानकारी दी जाएगी। पकवान, प्रश्नोत्तरी व स्लोगन लेखन प्रतियोगिता आयोजित होगी। कोविड टीकाकरण के लिए विशेष शिविर भी आयोजित होंगे। आखिरी दिन सहयोगी संगठनों व जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित कर उत्कृष्ट उपलब्धि वाले ब्लाक स्तरीय अधिकारियों और उच्च उपलब्धि वाली आशा, आशा संगिनी व एएनएम को पुरस्कृत किया जाएगा।

शर्तों में ही छिपा है सेहत का खजाना –

जिला कार्यक्रम समंवयक अंबरीश दुबे ने बताया कि योजना की पहली शर्त में एक हजार रुपये की धनराशि गर्भवती का पंजीकरण होने पर दिया जाता है ताकि सभी स्वास्थ्य सेवाएं उन्हे समय से मुहैया कराई जा सकें । इसकी दूसरी शर्त में दो हजार रुपये की धनराशि गर्भ के दूसरी तिमाही में गर्भवती की सेहत की जांच होने पर दी जाती है। जांच में जटिलता पाये जाने पर गर्भवती को विशेषज्ञ चिकित्सक के पास इलाज के लिए भेजा जाता है। तीसरी शर्त में दो हजार की धनराशि जन्मे शिशु का पंजीकरण कराने व पहले चक्र का टीकाकरण पूरा करने पर दी जाती है। इससे शिशु को जानलेवा बीमारी टीबी, काली खांसी, टिटनेस, गलघोटू, पोलियो व लीवर की बीमारी हेपेटाइटिस बी से सुरक्षा मिलती है। 

बड़े ही काम की है योजना -

जिला कार्यक्रम सहायक रेनू त्रिवेदी का कहना है कि आर्थिक व सामाजिक कारणों से कई महिलाएं गर्भावस्था के आखिरी दिनों तक परिवार के लिए जीविका अर्जित करना जारी रखती हैं । इसके अलावा वह बच्चे के जन्म देने के बाद वक्त से पहले काम करना शुरू कर देती हैं, जबकि उनका शरीर इसके लिए तैयार नहीं होता है। ऐसे में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत उन्हे पर्याप्त विश्राम करने के अवसर के साथ ही जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं भी मुहैया हो जाती हैं।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner