Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

गोरखपुर,पोलियो की दवा सुरक्षित और असरदार मुख्य विकास अधिकारी, एडी हेल्थ और सीएमओ ने जिला महिला अस्पताल से किया अभियान का शुभारंभ.

post

गोरखपुर,पोलियो की दवा सुरक्षित और असरदार मुख्य विकास अधिकारी, एडी हेल्थ और सीएमओ  ने जिला महिला अस्पताल से किया अभियान का शुभारंभ


19 सितम्बर से घर-घर जाकर पोलियो की दवा पिलाएंगी पल्स पोलियो की टीम


गोरखपुर, 18 सितम्बर 2022


पल्स पोलियो की दवा सुरक्षित और असरदार है । इसके प्रति मिथक और भ्रांतियों के कारण पड़ोसी देश पाकिस्तान और अफगानिस्तान में पोलियो का उन्मूलन नहीं हो सका, जबकि भारत में पोलियो उन्मूलन संभव हो गया । चूंकि पड़ोसी देशों में पोलियो के वायरस मौजूद हैं, इसलिए एहतियातन भारत के भी हर शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चे को पोलियो से पूर्ण प्रतिरक्षित किया जाना अनिवार्य है । इसलिए प्रत्येक अभिभावक का दायित्व है कि वह अपने पाल्यों को पोलियो की दवा अवश्य पिलाएं। उक्त जानकारी मुख्य विकास अधिकारी संजय कुमार मीना ने जिला महिला अस्पताल से पल्स पोलियो अभियान का शुभारंभ करते हुए दी । उन्होंने बताया कि 19 से 23 सितंबर तक घर-घर जाकर स्वास्थ्य विभाग की टीम पोलियो की दवा पिलाएंगी । अभियान का शुभारंभ सीडीओ के साथ-साथ एडी हेल्थ डॉ  आईबी विश्वकर्मा और सीएमओ डॉ  आशुतोष कुमार दूबे ने दर्जनों बच्चों को पल्स पोलियो ड्राप पिला कर किया। अधिकारीगण ने जिला महिला अस्पताल में स्थापित कोल्ड चेन प्वाइंट का निरीक्षण भी किया।

मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि अभियान को सफल बनाने के लिए जिलाधिकारी कार्यालय की तरफ से समस्त उप जिलाधिकारी, बेसिक शिक्षा विभाग, आईसीडीएस, जिला पूर्ति अधिकारी, नगर निकायों से संबंधित अधिकारियों और जिला पंचायती राज अधिकारी को पत्र भेजे गये हैं। इस पत्र के जरिये दिये गये दिशा-निर्देशों के अनुसार स्कूलों में बूथ दिवस पर रैलियां निकाली गयी हैं और पल्स पोलियो अभियान के प्रति जागरूकता के संदेश दिये गये । आईसीडीएस विभाग से कहा गया है कि आंगनबाड़ी केंद्रों के तीन से पांच वर्ष तक के बच्चों को केंद्र पर दवा पिलवाएं, जबकि तीन वर्ष से कम आयु के बच्चों के माताओं को प्रेरित कर दवा पिलाई जाए। राजस्व विभाग, आपूर्ति विभाग, पंचायती राज विभाग और नगर निकाय से जुड़े लोगों से इंकारी परिवारों को प्रेरित कर उनके बच्चों को पोलियों की दवा पिलवाने को कहा गया है ।


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आशुतोष कुमार दूबे ने बताया कि पोलियो का टीका नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में भी शामिल है । पल्स पोलियो का ड्रॉप जन्म के समय ही दिया जाता है। इसके अलावा छह, दस और चौदह सप्ताह पर भी यह ड्रॉप पिलाया जाता है । इसकी बूस्टर खुराक सोलह से चौबीस महीने की आयु में भी दी जाती है । भारत सरकार के नेशनल हेल्थ पोर्टल पर 23 अक्टूबर 2018 को प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक पोलियो के दो सौ संक्रमणों में से एक संक्रमण अपरिवर्तनीय पक्षाघात (आमतौर पर पैरों में) में बदल जाता है। ऐसे पक्षाघात पीड़ित में से पांच से दस फीसदी की मौत हो जाती है । ऐसे में इस जटिल बीमारी के प्रति संपूर्ण प्रतिरक्षण अति आवश्यक है ।


सीएमओ ने बताया कि जिले में रविवार को आयोजित बूथ दिवस पर 2159 बूथों पर पोलियो की दवा पिलाई गई। उद्घाटन अवसर पर जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ नंदलाल कुशवाहा, डिप्टी सीएमओ डॉ एके सिंह, अस्पताल के चिकित्सक डॉ जय कुमार, क्वालिटी मैनेजर डॉ कमलेश, मैट्रम सीके वर्मा, डीएचईआईओ केएन बरनवाल, एआरओ अजीत सिंह, स्वास्थ्य विभाग से बीबी सिंह, नवीन गुप्ता, आदिल, उपेंद्र, लालमन,  यूनिसेफ के रिजनल कोआर्डिनेटर  संदीप श्रीवास्तव, डीएमसी डॉ हसन फहीम, विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि नंदलाल और यूएनडीपी संस्था के प्रतिनिधि  पवन सिंह विशेष तौर पर मौजूद रहे । 



*स्वस्थ है ऐनुल हसन के दोनों बच्चे*


पिपराईच नगर पंचायत के गढ़वा निवासी ऐनुल हसन (37) का सरकारी टीकों में पूर्ण विश्वास है। उनका बड़ा बेटा मोहसिन साढ़े चार साल है जबकि बेटी सुफिया डेढ़ साल की है । उनका कहना है कि उन्होंने अपने दोनों बच्चों को पोलियो की सभी ड्रॉप पिलवाई है और सभी प्रकार के टीके सरकारी टीकाकरण केंद्र से ही लगवाए हैं। इससे उनके दोनों बच्चे स्वस्थ हैं । पोलियो के ड्रॉप के कारण कभी भी कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा। टीका लगने के बाद बुखार आता है जो सामान्य प्रभाव है। बच्चों को बुखार की दवा दी जाती है और वह ठीक हो जाते हैं। सभी लोगों को अपने बच्चों को पोलियो की दवा अवश्य पिलानी चाहिए और नियमित टीकाकरण भी कराना चाहिए।


*एक दिन के बच्चे से शुभारंभ*


बिछिया के रहने वाले अंकुर प्रजापति (37) के एक दिन के बच्चे को सीडीओ ने दवा पिला कर अभियान की शुरूआत की। अंकुर ने बताया कि उनके पहले बच्चे ने भी इस दवा का सेवन किया है। यह पूरी तरह सुरक्षित है।  एएनएम सोनबाला, शोभा, अनुष्का, नेहा और आंगनबाडी़ कार्यकर्ता पुष्पा यादव ने उद्घाटन कार्यक्रम में सहयोग किया।


*अभियान: एक नजर में*


कुल लक्षित गांव व मोहल्ले-4399

उच्च जोखिम क्षेत्र-53

लक्षित मकान-8.78 लाख

लक्षित लाभार्थी बच्चे-6.75 लाख

पर्यवेक्षक-517

गृह भ्रमण टीम-1494

ट्रांजिट टीम-287

मोबाइल टीम-64

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner