Breaking News

उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड

भरथना वृद्धाआश्रम पर विश्व अल्जाइमर दिवस पर हुआ जागरूकता कार्यक्रम.

post

भरथना वृद्धाआश्रम पर विश्व अल्जाइमर दिवस पर हुआ जागरूकता कार्यक्रम


21,सितंबर 2022।


भरथना स्थित हेल्थ यूथ फाउंडेशन संस्था व समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित वृद्ध आश्रम में बुधवार को विश्व अल्जाइमर दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम किया गया। जिसमें वृद्धावस्था में होने वाली अल्जाइमर समस्या के संदर्भ में सभी बुजुर्गों को महत्वपूर्ण जानकारी दी गई।

जिला अस्पताल की क्लीनिकल साइकाइट्रिक राजेश्री प्रजापति ने बताया कि अल्जाइमर डिमेंशिया रूप का ही एक प्रमुख कारक है। इस वर्ष विश्व अल्जाइमर दिवस की थीम आओ डिमेंशिया को जानें अल्जाइमर को जानें हैं। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 19 से 25 सितंबर तक डिमेंशिया वीक के तहत जागरूकता कार्यक्रम किए जा रहे हैं। जिससे सामुदायिक रूप से डिमेंशिया और अल्जाइमर के बारे में लोगों को सही जानकारी पहुंचाई जा सके।

जिला मानसिक स्वास्थ्य ईकाइ में तैनात साइकाइट्रिक सोशल वर्कर दिलीप चौबे ने कार्यक्रम में बताया कि बढ़ती उम्र के साथ अल्जाइमर रोग होने का खतरा बढ़ता है इसलिए बुजुर्गों में अल्जाइमर रोग होने पर मस्तिक से संचालित क्रियाएं धीरे-धीरे अनियंत्रित होने लगती हैं। धीरे धीरे याददाश्त की कमी होने लगती है। समय, दिन की पहचान करना मुश्किल, अपनों को पहचानना मुश्किल हो, कोई सामान रख कर भूल जाना, वहम, भ्रम, चिड़चिड़ापन या रास्ता भटक जाना अल्जाइमर के लक्षण होते हैं। उन्होंने बताया कि यह एक तरह की भूलने की बीमारी है। जो सामान्यता 60 वर्ष की उम्र के आसपास होती है जिससे वृद्धों का जीवन अव्यवस्थित होने लगता है और उनका मानसिक संतुलन पूरी तरह से प्रभावित होता है। इसलिए जब भी वृद्ध अल्जाइमर से ग्रसित हो तो उन्हें उचित चिकित्सक की सलाह और  प्रेम पूर्वक उनकी देखभाल करने से बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

वृद्ध आश्रम मैनेजर ऋषि कुमार ने बताया कि हमारे आश्रम में लगभग 65 वृद्ध लोग रहते हैं। आज आयोजित इस कार्यक्रम से मुझे तो बहुत अच्छी जानकारी मिली ही लेकिन हमारे वृद्धा आश्रम के परिवार में रहने वाले बुजुर्गों को भी बेहतर जानकारी प्राप्त हुई जो हम सबको लाभ पहुंचाएगी इसीलिए मैं सभी जिला मानसिक स्वास्थ्य इकाई को धन्यवाद। जिन्होंने हमारे यहां जागरूकता कार्यक्रम कर जानकारी दी।


बुजुर्गों में डिमेंशिया या अल्जाइमर का जोखिम कम कर सकते हैं-


मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए रचनात्मक क्रियाओं में रुचि जगाएं

संगीत और मनपसंद खेलों को बुजुर्ग अपनी जीवनशैली में प्रमुखता से स्थान दें।

सामाजिक गतिविधियों में भागीदारी कर आपसी संवाद करें।

रक्तचाप ,मोटापा ,मधुमेह को नियंत्रित करें।

शारीरिक व्यायाम व योगा अवश्य करें।

क्या है अल्जाइमर्स

- अल्जाइमर्स एक लगातार बढ़ने वाला रोग है, जिससे याददाश्त एवं अन्य महत्वपूर्ण दिमागी काम करने की क्षमता नष्ट हो जाती है।

- दिमाग की कोशिकाओं का एक दूसरे से जुड़ाव और खुद कोशिकाओं के कमजोर और खत्म होने की वजह से याददाश्त एवं अन्य महत्वपूर्ण दिमागी कार्य करने की क्षमता नष्ट हो जाती है।


लक्षण

- याददाश्त का लगातार कमजोर होना।

- व्यवहार में परिवर्तन।

- थोड़ी देर पहले हुई घटनाएं भूल जाना।

- बातचीत करने में असमर्थता।

- प्रतिक्रिया देने में विलंब।

- व्यक्तियों एवं जगहों के नाम भूल जाना।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner